Tally ERP-9 Learn in Hindi 2020 || Accounting Financial $%

Tally ERP-9

Accounting is the financial language of any business and  in accounting, We record all the detail of business-main purpose accounting to give financial information that is useful Decision


Tally ERP-9 Learn in Hindi 2020


एकाउंटिंग-

वित्तीय लेनदेन को व्यक्त करने की एक भाषा है जिसका प्रयोग व्यापार में रिकॉर्ड तैयार करने के लिए किया जाता है अतः इस प्रकार वित्तीय लेनदेन की प्रणाली को नियम बद्ध तरीके से की गई रिकॉर्ड किसी बिजनेस की काउंटिंग कहते हैं और इसके द्वारा लेनदेन का विश्लेषण सही मूल्यांकन किया जाता है



यही कारण है कि एकाउंटिंग किसी ट्रेड का मुख्य फंक्शन होता है जिसे किसी संस्था के द्वारा एक बुक द्वारा या एक एकाउंटिंग के द्वारा व्यवस्थित किया जाता है किसी भी देश के आर्थिक समृद्धि प्रत्येक पक्ष उस देश का व्यापार होता है और व्यापार को सुधार रूप से चलाने के लिए उसका लेखा-जोखा एक सिस्टम के अंतर्गत तैयार किया जाता है जिसे हम अकाउंटिंग कहते हैं 




Mini of accounting-

American institute of public के अनुसार लेखक के ऐसे व्यवहारों घटनाओं को कहां जाता है  जो कम से कम आंशिक हो  वित्तीय हो तथा महत्वपूर्ण ढंग से मुद्रा के लिए लिखे गए हो जिसे वर्गीकृत करने तथा संछिप्त करने की कला हो और जिसके परिणाम की व्यवस्था हो




काउंटिंग की परिभाषा-

Accounting is the process of final information to the concerned person such as owner-manager partner investor direct authorities etc.




Accounting वह प्रक्रिया होती है जिसके अंतर्गत किसी व्यापार के वित्तीय सूचना का विवरण तैयार किया जाता है इस विवरण का प्रयोग उससे संबंधित व्यक्ति से वार्तालाप के लिए प्रयोग किया जाता है मालिक प्रबंधक भागीदार आदि व्यापार का कोई भी कार्य का प्रारंभ लेनदेन से शुरू होता है अतः इस प्रकार लेनदेन ट्रांजैक्शन क्या है यह जानना लेखांकन जानने से पहले जरूरी है




What is a transaction-

Transaction are activities which changed the financial position of the business किसी व्यापार में वित्तीय स्थिति को बदलने के लिए किया गया कार्य अर्थात लेनदेन ट्रांजैक्शन कहलाता है या निम्नलिखित प्रकार में किया जाता है


 


1 cash transaction-

यह वह लेनदेन होती है जिसमें नगद पैसे का लेनदेन किया जाता है




2 credit transaction-

यह वहलेनदेन होता है जिसमें उधार के रूप में लेनदेन किया जाता है जिसका पेमेंट भविष्य में प्राप्त किया जाता है




3 objective of accounting-

लेखांकन का मुख्य उद्देश्य अलग-अलग बिजनेस के अनुसार अलग-अलग होता है किंतु साधारण इसके कुछ उद्देश्य निम्नलिखित है




  • नीतिगत तरीके से उद्देश्य को प्राप्त करना

  • व्यापार की वास्तविक स्थिति की जानकारी रखना

  • व्यापार से संबंधित संपत्ति की सुरक्षा करना

  • सरकारी नियम के अनु रूप टैक्स को ले लेना और देना इसके अतिरिक्त एकाउंटिंग  मैं इससे संबंधित हमें निम्नलिखित सूचनाओं को रखना होता है

  • To keeping a systematic record

  •  the nature of and amount of income

  •  the nature and amount of expansion

  •  nature and amount it possible losses

  •  nature and amount it possible losses

  •  size and value of capital employee

  • the incase and decrease the value of capital employee

  •  the value of exceeding owner

  • Liability outstanding

  • Expespic Amount due to the government read nature 




Accounting-

the function of accounting-

accounting को निम्नलिखित कार्य है


  •  व्यावसायिक लेन-देन को लिखना

  •  व्यापार में आय व्यय एवं लाभ हानि की गणना करना

  •  व्यापारियों की उनकी आर्थिक स्थिति बताना

  •  व्यवसाय कार्यकुशलता की मांग करना




 ऑब्जेक्ट ऑफ एकाउंटिंग लेखांकन  का उद्देश्य-

  • एकाउंटिंग के निम्नलिखित देश होते हैं जिनके द्वारा व्यापारियों को व्यापार की वास्तविकता का ज्ञान होता है

  • विक्रय का ज्ञान

  • मुद्रा का सही जानकारी

  • फौजी की सही जानकारी

  • लाभ हानि का ज्ञान

  • संपत एवं दायित्व का ज्ञान

  • देनदार अथवा लेनदार( क्रेडिट एंड डेबिट)

  • आय-व्यय के बारे में जानकारी




 एडवांटेज ऑफ एकाउंटिंग लेखांकन का लाभ-

लेखांकन से व्यापारियों एवं उपभोक्ता सरकार तथा अन्य पक्षों को लेखांकन के द्वारा निम्नलिखित लाभ प्राप्त होते हैं



  • व्यापारियों को काउंटिंग से लाभ

  • व्यापारियों को भूल चूक से बचने के लिए लेखांकन करना आवश्यक होता है

  • व्यापारियों के आर्थिक स्थिति का ज्ञान

  • कर्मचारियों के छल कपट की रोकथाम

  • व्यापार के मन में  सुविधा

  • व्यापारियों के विवादों में शीघ्र निपटारे में सहायक

  • ऋण की वसूली में सुविधा

  • एकाउंटिंग के द्वारा उपभोक्ताओं को लाभ-

  • लेखांकन के द्वारा उपभोक्ता को निम्नलिखित लाभ प्राप्त होता है

  • उचित विक्रय मूल्य

  • व्यापारी के भाग जाने का है ना होना




एकाउंटिंग के द्वारा सरकार को लाभ-

लेखांकन से सरकार को एक लिखित लाभ प्राप्त होते हैं
वित्तीय सहायक निर्धारण में सहायक देश की व्यवस्था एवं औद्योगिक स्थित की ज्ञान
राष्ट्रीयकरण में सहायक


Important accounting term-

Trede -

व्यापार की कोई भी कार्य क्योंकि लाभ हानि के लिए किया जाता है वह ट्रेन व्यापार कहलाता है और किसी भी ट्रेड में व्यापारी को लाभ तथा हानि दोनों होने की संभावना होती है




प्रोपराइटर हुनर व्यापार का मालिक-

यह व्यक्ति होता है जो व्यापार में पूजी लगाता है तथा व्यापार में संचालन करता है और व्यापार में क्योंकि उठाता है तथा इसके अतिरिक्त हुआ व्यक्ति व्यापारी से हुई लाभ का अधिकारी एवं हानि का जिम्मेदार होता है इसे प्रोपराइटर ओनर कहते हैं



पाटनर साझेदार-

जब किसी व्यापार को एक से अधिक व्यक्ति के द्वारा एक निश्चित में पूंजी लगाकर प्रारंभ किया जाता है

तो वे सभी व्यक्ति  उस व्यापार के साझेदार कहा जाता है




ट्रांजैक्शन लेन दे-

व्यापार से संबंधित समस्त आर्थिक क्रियाएं ज्योतिषी पथ के साथ उधार अथवा नगर के रूप में होते हैं उसे ट्रांजैक्शन वाले देश कहते हैं जैसे व्यापार में पूजी लगाना  खरीदना बेचना इत्यादि कारी ट्रांजैक्शन कहते हैं

  • नकद Transaction 

  • उधार transaction



कैपिटल पूंजी-

यह  वह धन राशि होती है  जो व्यापारी संपत्ति के रूप में व्यापार में लगाता है हुआ है पूजी कहलाता है



ड्राइंग   निजी  ब्यय आहरण-

जब व्यापार का स्वामी अपने निजी खर्च के लिए समय-समय पर व्यापार से रुपए या माल निकालता है यह उसका आहरण या निजी व्यय कहलाता है 



जैसे- एक कपड़े का व्यापारी अपने परिवार के सदस्यों के लिए यदि अपनी कर्म से कपड़े लेता है तो उसका जो धनराशि होगी वह आहरण कहीं जाएगी अर्थात या विक्रय नहीं माना जाता है 




गुडस  माल-

बाल उस वस्तु को कहते हैं जिसका क्रय विक्रय व्यापार में किया जाता है इसी के अंतर्गत वस्तुओं के निर्माण हेतु कच्ची सामग्री या तैयार   वस्तुएं हो सकती है




परचेज  क्रय-

तूने है विक्रय के उद्देश्य अर्थात व्यापार के लिए खरीदा गया माल करें कहलाता है या व्यापारी द्वारा लाभ पर बेचने के लिए खरीदा जाता है इस पर कार्य करें तो प्रकार से  की जाती है



 पहला है जब व्यापारी नगद माल को खरीदता है तो उसे नकद खरीद( कैस  परचेज)  कहते हैं

जब व्यापारी उधार माल खरीदना है तो उसे उधार खरीद ( क्रेडिट परचेज) कहते हैं




विक्रय-

जब खरीदा हुआ माल भेजा जाता है तो उसे विक्रय कहते हैं और यह विक्रय वही निम्नलिखित दो प्रकार में किया जाता है



  • पहला है जब मालिक है नगद बेचा जाता है तो उसे नकद विक्रय cash sale कहते हैं


  • दूसरा जब माल उधार बेचा जाता है तो उसे उधार विक्रय डेबिट सेल कहते हैं



अतः इस प्रकार   cash sells और क्रेडिट सेल्स दोनों को मिलाकर जितना कुल माल बेचा जाता है व्यापार का टर्नओवर कहते हैं



परचेज रिटर्न  क्राय वापसी-

जब खरीदे गए माल को किसी  कारण वह वापस किया जाता है तो इस प्रक्रिया को  क्राय वापसी कहते हैं




सेल्स रिटर्न विक्रय वापसी-

जब बेचे गए माल को किसी कारण से ग्राहक वापस करता है तो इस प्रक्रिया को विक्रय वापसी कहते हैं



Stock  रहतिया-

स्टॉक शब्द का आशय उस वस्तु से होता है जो किसी विशेष  तिथि को  बिना बिके बची रह जाती है



उसे stock  कहते हैं और यह स्टॉक निम्नलिखित दो प्रकार में होता है

  • Opening stock

  • Closeing stock

Opening stock-

यह स्टॉप वह  माल होता है जो व्यापारी के पास फाइनेंसियल ईयर वित्तीय वर्ष में होता है उसे ओपनिंग स्टॉक कहा जाता है




क्लोजिंग स्टॉक-

यह स्टॉक  वह माल होता है  जो व्यापारी के पास वित्तीय वर्ष के अंत में बिकने से शेष बचा रह जाता है उसे क्लोजिंग स्टॉक कहते हैं अतः इस प्रकार प्रत्येक वित्तीय वर्ष 1 क्लोजिंग स्टॉक को अगले वित्तीय वर्ष का ओपनिंग स्टॉक कहा जाता है 




फाइनेंशियल ईयर वित्तीय वर्ष-

1वर्ष का समय होता है जो 1 अप्रैल से शुरू होता है और अगले वर्ष के 31 मार्च तक चलता है


जैसे 1 अप्रैल 2017 से लेकर 31 मार्च 2018 तक जो 1 वर्ष का समय है उसे एक फाइनेंसियल इयर्स कहते हैं




लोन ऋण-

जब व्यापारी द्वारा किसी संस्था व्यक्ति अथवा बैंक से धनराशि को उधार लिया जाता है तो काउंटिंग के अंतर्गत इसे लोन कहते हैं या ऋण खाता कहते हैं




लायबिलिटीज दायित्व-

यह व्यापारी क्या कर्तव्य होता है कि जो धनराशि किसी अन्य पक्ष को भुगतान करनी है उसी धनराशि को व्यापारी की लाइव लिटीज कहा जाता है



  • Long term

  • Sort term

  • Fired term

  • Current term

Next Page - Debtor


एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ